यूजीसी ने मानव रचना फरीदाबाद को दिया सेक्शन 12 बी का दर्जा, प्रशांत ने दी बधाई

0

Faridabad News (citymail news ) यूजीसी ने अनुसंधान और विकास में अपने मजबूत फोकस की पुष्टि के लिए मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज को सेक्शन12 बी के अंतर्गत दर्जा दिया है. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने यूजीसी अधिनियम, 1956 के अंतर्गत  मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज (डीम्ड-टू-यूनिवर्सिटी) को 12 बी का दर्जा दिया है. यह छात्रों और संकाय सदस्यों के लिए एक बड़ी प्रेरणा के रूप में काम करेगा जो यात्रा अनुदान के साथ प्रमुख / मामूली शोध परियोजनाओं को आगे बढ़ाने में सक्षम होंगे, सेमिनार / कार्यशालाओं में भाग लेने के लिए अनुदान या स्टार्ट-अप की स्थापना के लिए समर्थन करेंगे। पीएचडी छात्र या शोध में उच्च अध्ययन करने वाले छात्र छात्रवृत्ति और अनुदान के लिए पात्र होंगे। यह दर्जा केवल भारत में ही नहीं, बल्कि सामाजिक भलाई के लिए अपने विविध नवाचारों के माध्यम से वैश्विक मंच पर मानव रचना के योगदान की पुष्टि है। मानव रचना में चलने वाली नवाचार संस्कृति यूजीसी द्वारा मान्यता प्राप्त सेक्शन12 बी स्थिति के साथ मजबूत होती है।
बता दें कि मानव रचना एनसीआर का सबसे पहला शिक्षण संस्थान है, जिसमें हजारों युवा अपने भविष्य का निर्माण कर रहे हैं। मानव रचना शिक्षण संस्थान के चेयरमैन प्रशांत भल्ला ने इस उपलब्धि के लिए सभी स्टॉफ को बधाई का पात्र बताया है। उन्होंने कहा कि मानव रचना का उद्देश्य एक सफल मानव का निर्माण करना है, जिसमें वह पूरी तरह से सफल हो रहे हैं। हर वर्ष हजारों युवा अपने कैरियर का निर्माण कर मानव रचना से सफल जीवन की ओर अग्रसर होते हैं। यूजीसी द्वारा मानव रचना को सेक्शन 12 बी के अंतर्गत दर्जा देना बड़ी कामयाबी है। उन्होंने कहा कि निकट भविष्य में इससे मानव रचना के छात्रों को बड़ा लाभ हासिल होगा। वह मानव रचना में शिक्षारत बच्चों के सफल व उज्जवल भविष्य की कामना करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here